Essay About Kashmir In Hindi

जम्मू कश्मीर का इतिहास। History of jammu and kashmir in hindi

जम्मू-कश्मीर हिमालय की पर्वतमालाओं में बसा हुआ है। इसे धरती का स्वर्ग भी कहा जाता है। जम्मू और कश्मीर राज्य की स्थापना 26 अक्टूबर 1947 में हुई थी। जम्मू-कश्मीर से कई देशों की सीमाएँ लगी हुई हैं। उत्तर-पूर्व में चीन दक्षिण में हिमाचल प्रदेश और पंजाब तथा पश्चिम एवं उत्तर-पश्चिम में पाकिस्तान द्वारा अधिकृत आजाद पाकिस्तान से जम्मू-कश्मीर की सीमा सटी हुई है।

जम्मू-कश्मीर के तीन प्रमुख क्षेत्र हैं-जम्मू कश्मीर घाटी तथा लद्दाख। कश्मीर की ग्रीष्मकालीन राजधानी श्रीनगर तथा शीतकालीन राजधानी जम्मू-कश्मीर है जबकि कश्मीर घाटी पृथ्वी के स्वर्ग के रूप में विश्व भर में सुविख्यात है। इसके अलावा कश्मीर पहाड़ों के अद्भुत आकर्षक और मनोहारी प्राकृतिक दृश्यों के लिए भी प्रसिद्ध है।

पहाड़ों में स्थित जम्मू के मंदिर एवं मस्जिद भी दर्शनीय पर्यटन-सथाल हैं। इन्हें देखने प्रति वर्ष हजारों पर्यटक आते हैं। लद्दाख जो छोटा तिब्बत के नाम से प्रसिद्ध है अपने बेमिसाल सुंदर पहाड़ों एवं बौद्ध संस्कृति के लिए सुविख्यात है।

हिन्दू ग्रंथों के अनुसार एक बार ऋषि कश्यप ने बारामूला के नजदीक पहाड़ को काटकर बनाई गई पीर पंजाल पर्वत श्रेणी की एक झील को सुखा दिया और फिर उस घाटी में भारत के लोगों को बसने के लिए प्रेरत किया। इस प्राकर इस घाटी का नाम कश्मीर घाटी पड़ गया।

कश्मीर सर्वप्रथम मौर्य एवं कुषाण साम्रामज्य में स्थापित हुआ था। तत्पश्चात् 8वीं सदी में हिन्दू वीर योद्धा ललितादित्य मुक्तापिदा ने कश्मीर पर शासन किया था। उसके बाद 12वीं शताब्दी में मुसलमानों की तुर्किश सेना ने कश्मीर पर आक्रमण किया। फिर सन् 1322 में जुल्कादुर खान ने इस पर पूर्णतः अपना अधिकार कर लिया। इस प्रकार एक के बाद एक कश्मीर पर आक्रमण और शामन किया जाता रहा। कश्मीर को धरती के स्वर्ग की संज्ञा दी गई है इसलिए हर कोई शासक कश्मीर पर शासन करना चाहता था। यहाँ की डल झील विश्व-प्रसिद्ध है। इसमें हाऊस-बोट होते हैं जिन्हें शिकारा कहते हैं। पर्यटक इसमेंबैठकर डल झील की सैर करते हैं और इसी में वे रहते भी हैं। सर्दियों में ये झील पूर्ण रूप से जम जाती है और इस पर बच्चे क्रिकेट खेलते हैं।

कश्मीर में शालीमार गार्डन है जिसे मुगल सम्राट जहाँगीर ने बनवाया था। यहाँ गुलमर्ग है जो घने जंगलों से घिरा हुआ है तथा यहाँ सुंदर व मनमोहक फूलों के बाग हैं। पटनीटॉप है जो अक्सर बर्फ से ठका रहता है। इसे हिल-रिजॉर्ट कहते हैं। पहलगाम है जहाँ अमरनाथ यात्रियों के लिए कैंप बनाए जाते हैं। सोनमर्ग है जो श्रीनगर जिले में है। इसके अलावा श्रीनगर से 11 कि.मी. की दूरी पर निशात गार्डन है  इसका र्निमाण नूरजहां के भाई आसफ खान ने करवाया था। यह डल झील के किनारे पर है। जम्मू में वैष्णो देवी का मंदिर है जो जमीन से 10-12 किलोमीटर ऊपर स्थित है।

इन सभी पर्यटन स्थलों को देखने जम्मू-कश्मीर मे हजारों पर्यटक प्रतिदिन आते हैं और प्राकृतिक सौन्दर्य का अद्भुत एवं स्वर्गीय आनन्द लेते हैं। जब सर्दी के महीनों में यहाँ आकाश से बर्फ बरसती है तो यह दृश्य बहुत सुंदर और मनोहारी होता है। उस समय बर्फबारी का यह दृश्य देखने हजारों पर्यटक आते हैं। तब पूरा कश्मीर बर्फ की सफेद चादर से ढक जाता है। यह दृश्य अत्यंत सुंदर और मनोरम होता है जो व्यक्ति यह दृश्य देखता है वह यही कहता है-कश्मीर धरती का स्वर्ग है। 


SHARE THIS



आज़ादी के बाद 1951 में जब देश की जनगणना हुई तब भारत की आबादी 361,088,090 (छतीस करोड़) बताई गयी और 2011 की जनगणना के अनुसार 1,210,854,977 (एक अरब इक्कीस करोड़ लगभग). तबसे आज तक हर एक भारतीय कश्मीर समस्या को जस का तस देख रहा है, कभी एक कदम आगे दो कदम पीछे की तर्ज पर! पाकिस्तान इसको लेकर हमसे चार लड़ाइयां लड़ चुका है तो उसके द्वारा फैलाये आतंकवाद के कारण आज तक शायद ही कोई महीना ऐसा रहा हो जब भारतीय जवान या कश्मीरी लोग (Kashmir Issue in Hindi) मरे न हों! कांग्रेस पार्टी को डुबोने वालों में से एक नेता पी.चिदंबरम का बयान आया कि कश्मीर समस्या का समाधान उसको और अधिक 'स्वय्यत्ता' देना है तो कोई ऐसे ज्ञानी महापुरुषों से पूछे कि पिछले 69 साल से हम और क्या कर रहे हैं? क्या चिदंबरम जैसी आत्माएं इस बात को जानती हैं कि पिछले 69 सालों में कश्मीर को भारत सरकार ने चार लाख करोड़ रूपया प्रत्यक्ष सहायता के रूप में दिया है, तो अप्रत्यक्ष और सीमाओं की रक्षा, आतंकवाद से निपटने के मामलों पर खर्च होने वाले लाखों करोड़ रूपये (Jammu Kashmir Solution) का कोई हिसाब ही नहीं है. चिदंबरम से कोई पूछे कि क्या वह जानते हैं कि कुछ साल पहले देशभर में अगर गरीबी रेखा से नीचे रहने वालों का प्रतिशत 26 था तो जम्मू कश्मीर में यह प्रतिशत 3.4 था. अर्थात जम्मू कश्मीर एक ऐसा राज्य था जहां गरीबों की संख्या 3.4 प्रतिशत थी और वह भी कश्मीर में नहीं गरीब सिर्फ जम्मू संभाग में थे. 

इसे भी पढ़ें: उलझ गयी हैं चतुर महबूबा!
Kashmir Issue in Hindi, Jammu Kashmir Solution, New Article, Nehru to Modi

अब कौन सी स्वाययत्ता चाहिए भाई? जम्मू कश्मीर को लेकर नरेंद्र मोदी ने चुनाव से पहले खूब वादा और दावा किया, किन्तु दो साल बीतते-बीतते हकीकत यही सामने आयी कि उनमें से किसी वादे का पूरा होना तो दूर, अमल भी शुरू नहीं हो सका! एक बात हम पिछले 69 साल से नहीं समझ सके हैं कि पहाड़ की ढलान पर या तो हम ऊपर चढ़ते हैं अथवा स्वयं ही नीचे फिसलते जाते हैं. चढ़ान पर 'यथास्थिति' जैसी कोई बात नहीं होती है. कश्मीर के मामले में कमोबेश हमारे साथ भी यही हो रहा है कि हम यथास्थिति (Jammu Kashmir Solution) बनाने के चक्कर में नीचे की ओर फिसलते जा रहे हैं. इतिहास में अगर हम नेहरू, शास्त्री और इंदिरा की बात करें कि उन्होंने मौका और वक्त रहते ही पाकिस्तान को ठीक ढंग से नहीं मरोड़ा तो उस प्रलाप का क्या लाभ, क्योंकि सवाल तो आज भी है हमारे सामने! आज हमारे सामने चीन का उदाहरण है कि किस तरह वह अकेला खड़ा होकर पूरे विश्व-समुदाय से 'दक्षिणी चीन सागर' पर टक्कर ले रहा है और हम हैं कि कश्मीर में कश्मीरियों के रूप में रह रहे पाकिस्तानियों के मुकाबले उसकी डेमोग्राफिक स्थिति तक नहीं बदल पाए हैं. आज 'पैलेट गन' की आड़ लेकर पाकिस्तान पूरी दुनिया में कहता फिर रहा है कि भारत कश्मीरियों (Kashmir Issue in Hindi) पर जुल्म ढा रहा है, मिलिट्री के दम पर वह कब्ज़ा किया बैठा है तो क्या 'कश्मीरी पंडितों की पूरी वापसी और उनके लिए सुरक्षित माहौल हम नहीं दे सकते हैं?' फौज के दम पर ही सही! 

इसे भी पढ़ें: आतंकी से इतनी 'सहानुभूति', यकीन नहीं होता...
Kashmir Issue in Hindi, Jammu Kashmir Solution, New Article, Nehru to Modi

पूरे देश में राष्ट्रवाद और हिंदूवाद का दम भरने वाली विश्व की सबसे अनुशासित संस्था आरएसएस और उसकी अनुगामी भाजपा की वहां और केंद्र दोनों जगह सरकारें हैं, तो फिर सामान्य गतिविधियों के लिए हम क्यों एक-दुसरे का मुंह ताकते हैं? जम्मू कश्मीर के लिए हमारे पीएम 80 हज़ार करोड़ का पैकेज देते हैं, वह दें किन्तु 'कश्मीरी-पंडितों' के मुद्दे पर इतना बड़ा क्वेश्चन-मार्क कहाँ से लग गया? साफ़ है कि वहां कश्मीरियों के वेश में छुपे हुए कुछ पाकिस्तानी बैठे हैं तो उनका मुकाबला करने के लिए पूर्व-सैनिकों को, कश्मीरी पंडितों को, टूरिस्टों के रूप में अन्य देशभक्तों को वहां बसाना ही होगा (Jammu Kashmir Solution) और वह भी बेहद तेजी से! पाकिस्तान हमसे चार-युद्ध कर चुका है, आतंकवाद की आग में कश्मीर को जलाने का यत्न कर चुका है और इससे ज्यादा वह क्या कर सकता है? कहते हैं कि शांति का मार्ग, युद्ध से होकर ही जाता है और इसके लिए हमें तैयार होकर वहां पूर्ण दबंगई दिखलानी होगी. छद्म-कश्मीरियों के नाम पर पाकिस्तानियों को जहन्नुम भेजना होगा तो कश्मीरी पंडित (Kashmir Pandit in Hindi) सहित अन्य कश्मीरी निवासियों के मन में यह बात भरनी होगी कि भारत इतना शक्तिशाली है कि वह सबकी रक्षा कर सकता है, बेशक इसके लिए चाहे जो कीमत चुकानी पड़े! इंदिरा गाँधी ने एक बार बांग्लादेश को अलग करने में जो भूमिका निभाई थी, वही भूमिका कश्मीर के सम्बन्ध में वर्तमान सरकार निभाये और जहाँ तक 'स्वाययत्ता' और 'विशेषाधिकार' की बात है तो उस कागज़ को या तो जला देना होगा अथवा उस कागज़ को जो पाकिस्तानी-आँख पढ़ने का दुस्साहस करे, उसे फोड़ देना होगा, पैलेट-गन से ही! 

इसे भी पढ़ें: भारतीय सैनिक हमारे दुश्मन नहीं हैं
Kashmir Issue in Hindi, Jammu Kashmir Solution, New Article, Nehru to Modi, Mehbooba Mufti, Amit Shah, Ram Madhav

किन्तु न केवल कश्मीर के लिए, बल्कि शेष भारत और पूरे दक्षिण एशिया के लिए कश्मीर समस्या के स्थाई समाधान के लिए यत्न शुरू करना होगा. और इसका दूसरा कोई यत्न नहीं है, सिवाय इसके कि पाकिस्तानियों को उस क्षेत्र से भगाओ और कश्मीरी-पंडितों समेत अन्य देशभक्तों को वहां भरो, बुलेट और पैलेट के दम पर ही सही! हाँ, जब तक इन तथ्यों को आत्मसात नहीं कर लिया जाता तब तक राजनाथ सिंह बयानबाजी जरूर करें और कश्मीर घाटी में अशांति के लिए पाकिस्तान को दोषी भी ठहराएं और खूब कहें कि कश्मीरी हमारे अपने लोग हैं जिन्हें बरगलाया जा रहा है, लेकिन हम कश्मीरियत, जम्हूरियत एवं इंसानियत के साथ कश्मीर (Kashmir Issue in Hindi) के हालात को सामान्य बनायेंगे और उसके गौरव एवं शोहरत को बहाल करेंगे. शोहरत और गौरव तो बहाल होना ही चाहिए राजनाथ सिंह जी, पर पैलेट गन के साथ-साथ आप 'कश्मीरी-पंडितों' और 'पूर्व-सैनिकों' को वहां बसाने की दबंगई दिखलाओ. यह बात आप भी जानते हो और देखना यह है कि इसकी शुरुआत कब करती है आपकी सरकार! 

इसे तो जरूर पढ़िए (गहरा है): 'आउट ऑफ़ दी बॉक्स' पॉलिटिक्स या... 
Kashmir Issue in Hindi, Jammu Kashmir Solution, New Article, Nehru to Modi, Home Minister Rajnath Singh ji

और हाँ, 'अब पछताए होत क्या, जब चिड़िया चुग गयी खेत' वाली कहावत तो आपने जरूर सुनी होगी. पहले ही हम 69 साल की देरी (Jammu Kashmir Solution) कर चुके हैं और आपकी सरकार भी अपनी आधी उम्र पर करने वाली है. क्या पता 2019 में आप सरकार में रहे न रहें, इसलिए बाकी की आधी-उम्र में तो इस समस्या का स्थाई समाधान करने की ओर मजबूत और सख्त कदम बढ़ा दीजिये. यकीन मानिये, पाकिस्तान जो अब तक कर चुका है उससे ज्यादा कुछ नहीं कर सकता और फौज की जितनी बदनामी वो कर रहा है, उससे ज्यादा हो नहीं सकती! इसलिए ....!!


- मिथिलेश कुमार सिंह, नई दिल्ली.



यदि लेख पसंद आया तो 'Follow & Like' please...

@mithilesh2020 को फ़ॉलो करें



ऑनलाइन खरीददारी से पहले किसी भी सामान की 'तुलना' जरूर करें 
(Type & Search any product) ...

समाचार" |  न्यूज वेबसाइट बनवाएं. | सूक्तियाँ | छपे लेख | Domain, Hosting 


Kashmir Issue,Hindi, Jammu Kashmir Solution, New Article, Nehru to Modi, editorial, politics, army, Pakistan, autonomy, Kashmiri Pandit, RSS, BJP,Breaking news hindi articles, latest news articles in hindi, Indian Politics, articles for magazines and Newspapers, Hindi Lekh, Hire a Hindi Writer, content writer in Hindi, Hindi Lekhak Patrakar, How to write a Hindi Article, top article website, best hindi articles blog, Indian Hindi blogger, Hindi website, technical hindi writer, Hindi author, Top Blog in India, Hindi news portal articles, publish hindi article free

मिथिलेश  के अन्य लेखों को यहाँ 'सर्च' करें...
( More than 1000 Hindi Articles !!)

0 Thoughts to “Essay About Kashmir In Hindi

Leave a comment

L'indirizzo email non verrà pubblicato. I campi obbligatori sono contrassegnati *